Welcome to
 JANARDAN MISHRA GROUP OF INSTITUTIONS
                                                                                     Vishv bandhu mishra

सफलता न तो किसी बाज़ार में मिलती है और न जिंदगी में सफल होने का कोई सीधा फार्मूला ही होता है | किन्तु हाथ में कोई हुनर हो तो सफलता के कई रास्ते निकल आते है | बाकी सब मिलता है अपने काम के प्रति ईमानदारी और जूनून से, हमने जिंदगी से यही सिखा है | सबसे बुनियादी बात यह है कि कैरियर के आरंभ में ऐसा क्षेत्र चुनिए जो न केवल आपकी क्षमता के अनुकूल हो बल्कि उसमे विशाल सम्भावनाये और उन्नति के अवसर भी हो | आज कंप्यूटर, मोबाइल, एयर कंडिशनिंग, वेल्डर, विडियो एडिटिंग और इलेक्ट्रोनिक्स ऐसे ही क्षेत्र है जहा सदा से टेक्निशियनो का अभाव रहा है | इन क्षेत्रो में विकाश की आपार संभावनाएं भी है इशलिये संस्था की प्रत्येक शाखा में इन विषयो की प्रशिक्षण की विशेस व्यवस्था है | यह संस्था आपके विस्वाश पर टिकी है आपका विश्वाश ही हमारी प्रेरणा है आपके इस विश्वाश को हम कभी भी टूटने नहीं देंगे |

                                                                 V M- Message! :- Er.VishvBandhu Mishra

Er.VishvBandhu Mishra                        

संत कबीर नगर के बारे में

  • कबीर एक ऐसी शख्शियत जिसने कभी शास्त्र नही पढा फिर भी ज्ञानियों की श्रेणीं में सर्वोपरी। कबीर, एक ऐसा नाम जिसे फकीर भी कह सकते हैं और समाज सुधारक भी । मित्रों, कबीर भले ही छोटा सा एक नाम हो पर ये भारत की वो आत्मा है जिसने रूढियों और कर्मकाडों से मुक्त भारत की रचना की है। कबीर वो पहचान है जिन्होने, जाति-वर्ग की दिवार को गिराकर एक अद्भुत संसार की कल्पना की। मानवतावादी व्यवहारिक धर्म को बढावा देने वाले कबीर दास जी का इस दुनिया में प्रवेश भी अदभुत प्रसंग के साथ हुआ।माना जाता है कि उनका जन्म सन् 1398 में ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन वाराणसी के निकट लहराता नामक स्थान पर हुआ था ।उस दिन नीमा नीरू संग ब्याह कर डोली में बनारस जा रही थीं, बनारस के पास एक सरोवर पर कुछ विश्राम के लिये वो लोग रुके थे। अचानक नीमा को किसी बच्चे के रोने की आवाज आई वो आवाज की दिशा में आगे बढी। नीमा ने सरोवर में देखा कि एक बालक कमल पुष्प में लिपटा हुआ रो रहा है। निमा ने जैसे ही बच्चा गोद में लिया वो चुप हो गया। नीरू ने उसे साथ घर ले चलने को कहा किन्तु नीमा के मन में ये प्रश्न उठा कि परिजनों को क्या जवाब देंगे। परन्तु बच्चे के स्पर्श से धर्म, अर्थात कर्तव्य बोध जीता और बच्चे पर गहराया संकट टल गया। बच्चा बकरी का दूध पी कर बङा हुआ। छः माह का समय बीतने के बाद बच्चे का नामकरण संस्कार हुआ। नीरू ने बच्चे का नाम कबीर रखा किन्तु कई लोगों को इस नाम पर एतराज था क्योंकि उनका कहना था कि, कबीर का मतलब होता है महान तो एक जुलाहे का बेटा महान कैसे हो सकता है? नीरू पर इसका कोई असर न हुआ और बच्चे का नाम कबीर ही रहने दिया। ये कहना अतिश्योक्ति न होगी कि अनजाने में ही सही बचपन में दिया नाम बालक के बङे होने पर सार्थक हो गया। बच्चे की किलकारियाँ नीरू और नीमा के मन को मोह लेतीं। अभावों के बावजूद नीरू और नीमा बहुत खुशी-खुशी जीवन यापन करने लगे।

    जीव हिंसा न करने और मांसाहार के पीछे कबीर का तर्क बहुत महत्वपूर्ण है। वे मानते हैं कि दया, हिंसा और प्रेम का मार्ग एक है। यदि हम किसी भी तरह की तृष्णां और लालसा पूरी करने के लिये हिंसा करेंगे तो, घृणां और हिंसा का ही जन्म होगा। बेजुबान जानवर के प्रति या मानव का शोषण करने वाले व्यक्ति कबीर के लिये सदैव निंदनीय थे।

    कबीर दास जी का अवसान भी जन्म की तरह रहस्यवादी है। आजीवन काशी में रहने के बावजूद अन्त समय सन् 1518 के करीब मगहर चले गये थे क्योंकि वे कुछ भ्रान्तियों को दूर करना चाहते थे। काशी के लिये कहा जाता था कि यहाँ पर मरने से स्वर्ग मिलता है तथा मगहर में मृत्यु पर नरक। उनकी मृत्यु के पश्चात हिन्दु अपने धर्म के अनुसार उनका अंतिम संस्कार करना चाहते थे और मुसलमान अपने धर्मानुसार विवाद की स्थिती में एक अजीब घटना घटी उनके पार्थिव शरीर पर से चादर हट गई और वहाँ कुछ फूल पङे थे जिसे दोनों समुदायों ने आपस में बाँट लिया। कबीर की अहमियत और उनके महत्व को जायसी ने अपनी रचना में बहुत ही आतमियता से परिलाक्षित किया है।

Latest results

Comming Soon...

745 jmit 25/11/2015
745 jmit 25/11/2015
745 jmit 25/11/2015
745 jmit 25/11/2015
745 jmit 25/11/2015
745 jmit 25/11/2015
745 jmit 25/11/2015
745 jmit 25/11/2015
745 jmit amit 25
745 jmit 25/11/2015
more

Library

jmit
more